स्मृति डाक टिकट पर सियासी ‘मुहर’

डाक टिकट- न्यूज़ अपडेट 1 अक्टोबर 2015केंद्रीय संचार एवं प्रोद्यौगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने इंदिरा गांधी और राजीव गांधी पर नियत डाक टिकट निकाले जाने की परंपरा को बंद कर विवाद खड़ा कर दिया है। उनके आरोपों में एक तरफ आंशिक सच्चाई है तो दूसरी तरफ राजनीति की गंध भी नजर आती है। पिछले कई महीनों से वह कहते आ रहे हैं कि नेहरू-गांधी परिवार के तीन व्यक्तियों पर ही अब तक डाक टिकट केंद्रित रहे हैं और कई महत्वपूर्ण लोगों पर आज तक डाक टिकट नहीं निकले। पिछले दिनों मंत्रिमंडल के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में भी उन्होंने यह मुद्दा खुद उठाया। इससे पहले भी वह इस मुद्दे को विभिन्न मंचों पर उठा चुके हैं। अब वह कह रहे हैं कि यह फैसला डाक टिकट सलाहकार समिति का था। लेकिन उन्होंने यह तथ्य नहीं बताया कि डाक टिकट निकालने की जो पहली श्रृंखला 1949 में शुरू हुई थी उसके 59 साल बाद ‘आधुनिक भारत के निर्माता’ श्रृंखला शुरू हुई। ओर पढ़े

Comment Here

Leave a Reply