विश्व स्तर पर “इंटरनेशनल डे टू इंड इम्प्युनिटी फॉर क्राइम्स अगेंस्ट जर्नलिस्ट” मनाया गया

विश्व स्तर पर 2 नवम्बर 2015 को “इंटरनेशनल डे टू इंड इम्प्युनिटी फॉर क्राइम्स अगेंस्ट जर्नलिस्ट” अर्थात “पत्रकारों के खिलाफ अपराधों के लिए दण्डमुक्ति समाप्त करने के लिए अंतरराष्ट्रीय दिवसीय” मनाया गया.
संयुक्त राष्ट्र महासभा ने वर्ष 2013 में 68वें अधिवेशन के दौरान प्रत्येक वर्ष 2 नवम्बर को इंटरनेशनल डे टू इंड इन्प्युनिटी फॉर क्राइम्स अगेंस्ट जर्नलिस्ट के रूप में मनाने का की घोषणा की.
महासभा में पारित किए गए प्रस्ताव में सभी सदस्यों से पत्रकारों के खिलाफ किए गए अपराध से दंडमुक्ति समाप्त करने का आह्वाहन किया गया. 2 नवम्बर को इस दिवस के रूप में चुनने का कारण यह है की इस दिन फ्राँस के दो रेडियो पत्रकार क्लाउदे वेरलोन और गिसिलेन दुपोंत की उत्तरी माली में अपहरण के बाद हत्या कर दी गई थी.

संयुक्त राष्ट्र के अनुसार पिछले एक दशक में 700 से अधिक पत्रकार जनता के लिए समाचार और जानकारी एकत्रित करने में मारे जा चुके हैं और पिछले एक दशक में मीडिया कार्यकर्ताओं के खिलाफ प्रतिबद्ध दस में से एक मामलों में दोषी को सजा मिली है. इस तरह की दंडमुक्ति पत्रकारों के खिलाफ अपराध को बढ़ावा देती है. इस दिवस का उद्देश्य सदस्य राष्ट्रों को पत्रकारों के विरुद्ध किए जा रहे अपराध को रोकने के प्रति जागरूक करना और कानून बनाने के लिए प्रेरित करना है. और पढ़ें

Comment Here

Leave a Reply