लड़के-लड़कियों के अलग खेल क्यों?

151124172934_pt_usha_624x351_pti

भारत की उड़नपरी कही जाने वाली पीटी उषा ने स्कूल गेम्स फ़ेडरेशन ऑफ़ इंडिया (एसजीएफ़आई) पर लैंगिक भेदभाव का आरोप लगाया है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखी है. उन्होंने एसजीएफ़आई पर आरोप लगाया कि फ़ेडरेशन ने सिफ़ारिश की है कि लड़कों और लड़कियों के लिए अलग-अलग खेल आयोजन रखे जाएं.एसजीएफ़आई ने जनवरी के दूसरे हफ़्ते में नासिक में लड़कों के लिए एथलेटिक्स प्रतियोगिताएं रखी हैं और दिसंबर के चौथे हफ़्ते में पुणे में लड़कियों के लिए प्रतियोगिताएं रखी हैं. पीटी उषा ने बीबीसी हिंदी को बताया, “साठ साल में ऐसा कभी नहीं हुआ. अब क्यों हो रहा है? पुणे में कैसे बुनियादी सुविधाओं की कमी हो सकती है? पुणे देश के सर्वोत्तम केंद्रों में है. मैंने कभी महिला और पुरुषों के अलग ओलंपिक के बारे में नहीं सुना.”…और पढ़ें

Comment Here

Leave a Reply