ज़रूरत हुई तो आईएस के ख़िलाफ़ ज़मीनी हमले

ज़रूरत हुई तो आईएस के ख़िलाफ़ ज़मीनी हमले

151009121959_ashton_carter_640x360_afp_nocredit

इराक़ और सीरिया में इस्लामिक स्टेट (आईएस) के ख़िलाफ़ अमरीका अपनी नीति में बदलाव कर सकता है. सीनेट आर्म्ड सर्विस कमेटि के समक्ष बोलते हुए अमरीकी रक्षामंत्री ऐशटन कार्टर ने अब ज़मीनी लड़ाई के संकेत दिए हैं.

कार्टर ने साफ़ किया कि अमरीका आईएस के ख़िलाफ़ ना केवल हवाई हमले तेज़ करेगा, बल्कि ज़रूरत पड़ने पर ज़मीनी हमले भी कर सकता है. कार्टर के मुताबिक़ सीरिया के रक्का शहर को आईएस के क़ब्ज़े से छुड़ाने के लिए गठबंधन सेना सीरियाई विपक्षी गुट को और अधिक सैन्य मदद देगी.

अगर ऐसा हुआ तो ये पहली बार होगा कि अमरीकी अगुवाई वाली गठबंधन सेना सीरिया और इराक़ में ज़मीनी लड़ाई शुरू करेगी. वैसे पिछले हफ़्ते उत्तरी इराक़ में आईएस के चंगुल से क़ैदियों को छुड़ाने के लिए अमरीकी सेना ने कुर्दी सैनिकों की मदद की थी.

बता दें कि अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा पहले ही साफ़ कर चुके थे कि अमरीका ज़मीनी लड़ाई के लिए सेना नहीं भेजेगा. लेकिन कार्टर के ताज़ा बयान के बाद इस नीति में बदलाव के संकेत साफ़ दिख रहे हैं…और पढ़ें

Comment Here

Leave a Reply