अप्रैल-सितंबर अवधि में अप्रत्यक्ष कर संग्रह 35.8 प्रतिशत बढ़ा

अप्रैल-सितंबर अवधि में अप्रत्यक्ष कर संग्रह 35.8 प्रतिशत बढ़ा

कर संग्रह - न्यूज़ अपडेट 12 अक्टोबर 2015“उत्पाद शुल्क में लगभग 70 प्रतिशत के जोरदार उछाल के साथ अप्रत्यक्ष कर संग्रह चालू वित्त वर्ष की पहली छमाही में पिछले साल की इसी अवधि के मुकाबले 35.8 प्रतिशत बढ़कर 3.24 लाख करोड़ रुपये पर पहुंच गया। इससे आर्थिक गतिविधियों में वृद्धि की झलक मिलती है। एक साल पहले इसी अवधि में अप्रत्यक्ष कर संग्रह 2.38 लाख करोड़ रुपये रहा था। ”

चालू वित्त वर्ष की अप्रैल से सितंबर अवधि में कर संग्रह वृद्धि पूरे वित्त वर्ष के लक्ष्य को पाने के लिए जरूरी 18.8 प्रतिशत वृद्धि के मुकाबले दोगुनी रही है। वित्त मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा, ‘अप्रत्यक्ष कर संग्रह की वृद्धि में सबसे ज्यादा योगदान उत्पाद शुल्क प्राप्ति का रहा है। उत्पाद शुल्क प्राप्ति इस दौरान 69.6 प्रतिशत बढ़ी है। अप्रैल से सितंबर 2015-16 के दौरान उत्पाद शुल्क वसूली 1.25 लाख करोड़ रुपये रही है। एक साल पहले इसी अवधि में यह 74,019 करोड़ रुपये रही थी।’ छह महीने की इस अवधि में सीमा शुल्क प्राप्ति 17.5 प्रतिशत बढ़कर 1.03 लाख करोड़ रुपये तक पहुंच गई जबकि सेवा कर की वसूली 24.3 प्रतिशत बढ़कर 95,493 करोड़ रुपये रही। ओर पढ़े

Comment Here

Leave a Reply